ALL उज्जैन शहर राज्य स्वास्थ्य देश विदेश मनोरंजन
113 जोड़े बने, 121 का लक्ष्य, अब तक विश्व रिकार्ड 114 दिव्यांग जोड़ों के विवाह का
February 18, 2020 • अपूर्व देवड़ा • उज्जैन शहर

उज्जैन। उज्जैन जिले में दिव्यांग विवाह के लिये जोर-शोर से तैयारी जारी है। जिले में अब तक विभिन्न परिचय सम्मेलनों में 113 जोड़े बने है। लक्ष्य 121 जोड़ों का निर्धारित किया गया है, ताकि पुराना विश्व रिकार्ड जो कि बैतुल जिले में 114 दिव्यांग जोड़ों का बना था, उसको तोड़कर नया रिकार्ड बनाया जा सके। दिव्यांग सामूहिक विवाह का आयोजन 12 एवं 13 मार्च को होगा। 12 को मेंहदी लगेगी एवं महिला संगीत तथा 13 तारीख को विवाह समारोह होगा। दिव्यांग विवाह के सिलसिले में आज मेला कार्यालय में जिला पंचायत अध्यक्ष श्री करण कुमारिया की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। बैठक में निर्णय लिया गया कि दिव्यांग विवाह की विभिन्न व्यवस्थाओं के लिये सामाजिक संगठनों, व्यवसाईयों एवं विभिन्न कंपनियों को जोड़ा जाये। बैठक में जिला पंचायत उपाध्यक्ष डॉ.मदनलाल चौहान एवं अपर कलेक्टर श्रीमती बिदिशा मुखर्जी मौजूद थीं।

बैठक में विभिन्न व्यवस्थाओं को लेकर चर्चा की गई। विवाह स्थल के बारे में विचार किया गया तथा यह तय किया गया कि सभी जनपदों के जोड़ों को अलग-अलग स्थानों पर ठहरा कर विवाह के लिये एक ही स्थान पर ले जाया जाये। सभी जनपदों के जोड़ों की व्यवस्था जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों द्वारा देखी जायेगी। दिव्यांग विवाह में लगभग 10 हजार व्यक्तियों को नाश्ता, भोजन एवं चाय-काफी की व्यवस्था जय गुरूदेव संस्था की ओर से की जायेगी। इसी तरह दिव्यांग विवाह में फेरे, निकाह एवं अन्य समुदाय से यदि जोड़े तैयार होते हैं तो उनके रिति-रिवाज के अनुसार विवाह आयोजन के लिये पंडित, मौलवी आदि को बुलाया जायेगा। बैठक में दिव्यांग विवाह के लिये विभिन्न व्यवस्थाओं हेतु नोडल अधिकारी नियुक्त करने, कार्यक्रम के आमंत्रण-पत्र एवं पुस्तिका छपवाने एवं उसका वितरण करने, कार्यक्रम स्थल पर साफ-सफाई की उचित व्यवस्था एवं फायर ब्रिगेड की व्यवस्था करने के बारे में दिशा-निर्देश दिये गये।
बैठक में निर्देश दिये गये कि विभिन्न निकायों द्वारा तैयार किये गये जोड़ों एवं उज्जैन जिले के बाहर के जोड़ों को नि:शक्त विवाह प्रोत्साहन योजना का लाभ दिलाये जाने हेतु निर्धारित आवेदन-पत्र पूर्व से ही प्राप्त कर लिये जायें तथा उनकी नियमानुसार जांच कर ली जाये। सूची अनुसार कन्या विवाह/निकाह सहायता की राशि विवाह के बाद अन्तरित की जायेगी। विवाह स्थल पर दिव्यांग जोड़ों के रोजगार ऋण प्रकरण एवं प्रशिक्षण आदि की व्यवस्था भी करने को कहा गया है। बैठक में सामाजिक न्याय विभाग के संयुक्त संचालक श्री सीएल पंथारी, स्नेह संस्था नागदा के श्री पंकज मारू, जय गुरूदेव संस्था के श्री एससी फुलोनिया, श्री केशरसिंह पटेल, श्रीमती सरोज अग्रवाल, श्री संतोष वर्मा, श्री राजू पटेल, सुश्री चंचल श्रीवास्तव, सुश्री योगिता पुरोहित सहित विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधि एवं अधिकारी मौजूद थे।