ALL उज्जैन शहर राज्य स्वास्थ्य देश विदेश मनोरंजन
अब पछताने से क्या, जब कोरोना रूपी चिड़िया चुग गई खेत
May 18, 2020 • EDITOR • उज्जैन शहर

 सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया, एक ही परिवार के 12 लोग कोरोना पॉजिटिव

उज्जैन  17  मई।  कोरोना  वायरस बीमारी से बचाव के लिए जिला प्रशासन द्वारा बार-बार सोशल  डिस्टेंसिंग का पालन करने के निर्देश दिए जा रहे हैं। साथ ही कर्फ्यू  एवम  लॉक डाउन में घरों में रहने के लिए कहा जा रहा है। किंतु कतिपय लोग इस चीज को मजाक समझ रहे हैं और मनमर्जी कर रहे हैं। ऐसा ही एक उदाहरण उज्जैन  शहर  के बेगमपुरा रहवासी क्षेत्र  में आया है। जहां एक ही परिवार के 12 लोग कोरोना पॉजिटिव निकले  है। इन सभी को आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है जहां इनका उपचार किया जा रहा है।
इस  परिवार के लोगों के सदस्यों से  आर आर टीम द्वारा बात करने पर यह तथ्य सामने आया है कि इन लोगों द्वारा कर्फ्यू एवं लॉकडाउन का  गंभीरता से पालन नहीं किया गया । गैरजरूरी चीजों के लिए चुपचाप  अंधेरे  का फायदा उठा कर कर्फ्यू का उल्लंघन करते हुए परिवार के  सदस्य   यहां वहां जाते रहे। यही नहीं यह सभी लोग इकट्ठे होकर टाइमपास करते, घरों में पार्टियां करते एवं जब भी मौका मिलता गलियों में क्रिकेट खेलने का शौक भी फरमा लेते। पुलिस को देखकर छिप जाने की प्रवृत्ति जरूर इन्होंने  अपनाई ।लेकिन यह  सब करके   ये  लोग  कोरोना से छिप नही सके। कोरोना ने  एक  नहीं, दो  नहीं  पूरे  12  लोगो को लपेट  लिया।
आरडी  गार्डी  में भर्ती होते समय ये  सभी लोग  पछता रहे हैं,लेकिन  अब  पछताने से  क्या, जब   कोरोना रूपी चिड़िया  चुग गई खेत। पूरा परिवार, जिसमें सात वर्ष के बच्चे से लेकर 72 वर्ष के बुजुर्ग शामिल हैं, सब अस्पताल में  भर्ती है। एक  गलती ने  पूरे परिवार का जीवन खतरे में डाल दिया  है।
सोशल डिस्टेंनसिंग  , लॉकडाउन का पालन ही एकमात्र उपाय
कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी श्री  आशीष सिंह ने उज्जैन शहर एवं जिले के नागरिकों से अपील की है कि वे कोरोना वायरस से डरे नहीं उससे लड़ने के लिए स्वयं को  तैयार करे। उन्होंने कहा कि केवल दो-तीन ही  बातें है  जिनका पालन कर   हम  कोरोना से बच सकते है।  इनमें  सोशल  डिस्टेंसिग  का पालन , हाथों को बार-बार साबुन से  20 सेकंड तक मलमल कर  धोना, कर्फ्यू एवं लॉकडाउन का पालन करते हुए घरों में रहना  शामिल है। उन्होंने कहा कि  घरों में भी यदि कोई व्यक्ति सर्दी जुखाम बुखार से पीड़ित है तो उसकी सूचना कंट्रोल रूम  पर  अनिवार्य रूप  देना   चाहिए। कलेक्टर ने अपील की है कि  घर घर  सर्वे के लिए  आ रही टीम  को  सही सही  जानकारी  दे और  कोरोना   जारी  लड़ाई में सहयोग  करे।