ALL उज्जैन शहर राज्य स्वास्थ्य देश विदेश मनोरंजन
कमिश्नर ने ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग के कार्यों की संभागीय समीक्षा बैठक ली
July 22, 2020 • EDITOR • उज्जैन शहर

मनरेगा के अपूर्ण कार्यों को एक अभियान चलाकर शत-प्रतिशत पूर्ण किया जाये, जो ठेकेदार निर्माण कार्य में रूचि नहीं ले रहे हैं, उन्हें ब्लेकलिस्ट किया जाये  – कमिश्नर

 

 

उज्जैन। उज्जैन संभाग कमिश्नर श्री आनन्द कुमार शर्मा ने बुधवार को ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग उज्जैन मण्डल के निर्माण कार्यों की संभागीय समीक्षा की। उन्होंने मुख्यमंत्री ग्राम सरोवर योजना के अन्तर्गत निर्मित तालाबों, मुख्यमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत निर्मित सड़कों, खेल मैदान, हैण्ड पम्प खनन, प्रधानमंत्री आवास ग्रामीण, गौशाला निर्माण, हैल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर एवं मनरेगा योजना के वर्ष 2018-19 के पूर्ण एवं अपूर्ण कार्यों की जिलेवार समीक्षा की। कमिश्नर श्री शर्मा ने निर्देश दिये कि जिन जिलों में मनरेगा के कार्य अपूर्ण स्थिति में हैं, उन सभी जिलों में एक अभियान चलाकर मनरेगा के कार्य पूर्ण किये जायें। किसी भी स्थिति में इस वित्तीय वर्ष में अपूर्ण कार्य लम्बित न रहें। उल्लेखनीय है कि संभाग में चार लाख 19 हजार 891 कार्य में से तीन लाख 94 हजार 790 कार्य पूर्ण हुए हैं, वहीं 25 हजार 101 कार्य अपूर्ण स्थिति में हैं। बताया गया कि कोरोना संक्रमण के चलते उज्जैन संभाग में 41 हजार 500 श्रमिक पलायन कर आये हैं, जिनमें से 13 हजार 42 श्रमिकों को कार्य दिया गया है।

 

कमिश्नर ने मुख्यमंत्री ग्राम सरोवर योजना के अन्तर्गत निर्मित सरोवरों के निर्माण कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने निर्देश दिये कि जिन तालाबों का निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका है, उन तालाबों में मत्स्य पालन विभाग के सहयोग से मछली पालन को प्रोत्साहित करते हुए जिओ टेगिंग भी की जाये तथा इन तालाबों से मछुआरों को भी जोड़ा जाये, ताकि उन्हें रोजगार की प्राप्ति हो सके। उन्होंने निर्देश दिये कि बारिश में कोई भी तालाब न टूटे या फूटे, यह सुनिश्चित किया जाये।

 

कमिश्नर ने मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के अन्तर्गत निर्मित प्रथम चरण में पूरी की गई 726 सड़कों की जानकारी ली एवं निर्देश दिये कि यदि कोई व्यक्ति स्वेच्छा से अपनी जमीन दे रहा है तो विभागीय अधिकारी खेत सड़क योजना अन्तर्गत सड़क का निर्माण अनिवार्य रूप से करें। उन्होंने कहा कि गत दिवस नागदा में स्वयं ग्रामीणों ने अपनी राशि से एक सड़क का निर्माण किया है। होना यह चाहिये था कि उस सड़क का निर्माण विभागीय अधिकारियों को करना था। कमिश्नर ने निर्देश दिये कि जिन सड़कों का कार्य पूर्ण हो चुका है, वहां-वहां योजना का नाम, सड़क की दूरी, गांव का नाम आदि के सम्बन्ध में बोर्ड अनिवार्य रूप से लगाये जायें। बताया गया कि 114 सड़कों का निर्माण कार्य जो छूट गया था, उनमें से 107 सड़कों का निर्माण कर लिया गया है। शेष सड़क भी बारिश से पूर्व बना दी जायेंगी। मुख्यमंत्री ग्रामीण खेल मैदान एवं स्टेडियम निर्माण की समीक्षा के दौरान कमिश्नर ने पाया कि संभाग में 26 खेल मैदान में से 23 खेल मैदान का कार्य पूर्ण हो गया है। शेष तीन खेल मैदान ठेकेदार के द्वारा रूचि न लेने के कारण पूर्ण नहीं हो सके हैं। कमिश्नर ने निर्देश दिये कि जो ठेकेदार खेल मैदान के निर्माण के कार्य में रूचि नहीं ले रहे हैं, उन्हें प्राथमिकता से ब्लेकलिस्टेड किया जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि खेल मैदान का कार्य पूर्ण होने के पश्चात उसे सम्बन्धित विभाग को हस्तांतरित कर दिया जाये। साथ ही यह सुनिश्चित किया जाये कि खेल मैदान में नियमित रूप से खेल गतिविधियों का आयोजन होता रहे। खेल के अलावा अन्य गतिविधियां न हो।

 

कमिश्नर श्री शर्मा ने गौशाला निर्माण की अद्यतन स्थिति की समीक्षा की और निर्देश दिये कि गौशाला बनने के बावजूद भी गांव एवं सड़कों पर आवारा मवेशी बैठे दिख जाते हैं। उन सबको गौशाला में रखा जाये। गौशाला में पानी की व्यवस्था अनिवार्य रूप से की जाये। साथ ही गौशाला में अन्य गतिविधियां जैसे चारा विकास, मुर्गी पालन, वत्स सुधार, मधुमक्खी पालन आदि के अतिरिक्त कार्य भी संचालित किये जायें। कमिश्नर ने प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण की समीक्षा की और निर्देश दिये कि आवास का कार्य समय-सीमा में पूर्ण किया जाये।

 

बैठक में उपायुक्त विकास श्री सीएल डोडियार सहित संभाग के सभी जिलों के कार्यपालन यंत्री उपस्थित रहे।