ALL उज्जैन शहर राज्य स्वास्थ्य देश विदेश मनोरंजन
किसी भी व्यक्ति को सर्दी, खांसी या अन्य लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो वह फीवर क्लिनिक में आकर जांच कराये – संभागायुक्त
July 22, 2020 • EDITOR • उज्जैन शहर

कमिश्नर एवं कलेक्टर ने माधव नगर चिकित्सालय में स्थापित फीवर क्लिनिक का निरीक्षण किया

उज्जैन। उज्जैन संभाग कमिश्नर श्री आनन्द कुमार शर्मा एवं कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने आज शासकीय माधव नगर चिकित्सालय में स्थापित फीवर क्लिनिक का आकस्मिक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान कमिश्नर श्री शर्मा ने ओपीडी कक्ष का निरीक्षण किया एवं प्रतिदिन स्वास्थ्य की जांच कराने आ रहे लोगों से चर्चा की। ओपीडी में उज्जैन एवं उज्जैन के आसपास के ग्रामों तथा अन्य जिलों से आये मरीजों से कमिश्नर ने उनके स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी लेते हुए समझाईश दी कि यदि किसी भी व्यक्ति को सर्दी, खांसी या अन्य कोई लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो वह बिना देर किये शासकीय चिकित्सालय में स्थापित फीवर क्लिनिक में आकर अपनी जांच कराये और शंका का समाधान कराये। कमिश्नर ने उपस्थित लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने, मास्क लगाने एवं हाथों को सेनीटाइज करने की भी समझाईश दी।

बताया गया कि ओपीडी में प्रतिदिन 70 से 80 व्यक्ति अपने स्वास्थ्य की जांच कराने आ रहे है। कमिश्नर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.महावीर खंडेलवाल को निर्देश दिये कि वे चिकित्सालय के अन्दर एवं बाहर, प्रांगण में तथा चिकित्सालय में प्रवेश करने के पूर्व के स्थल में फीवर क्लिनिक की जानकारी से सम्बन्धित बड़े-बड़े बोर्ड लगायें, ताकि आमजन को इधर-उधर भटकना न पड़े। कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने चिकित्सालय में सेनीटाइजर मशीन लगाने के निर्देश दिये। कमिश्नर एवं कलेक्टर ने फीवर क्लिनिक में मरीजों की जांच कर रहे चिकित्सकों से वर्तमान स्थिति की जानकारी ली और निर्देश दिये कि जो व्यक्ति ओपीडी में जांच कराने आ रहे हैं, उन सबका रिकार्ड रखा जाये और उन सबकी जानकारी सार्थक एप पोर्टल पर अनिवार्य रूप से इन्द्राज की जाये। बताया गया कि माधव नगर चिकित्सालय में 58 कोविड-19 के मरीज उपचाररत है, जिनमें से आज नौ मरीजों को डिस्चार्ज किया जायेगा।

 

कमिश्नर एवं कलेक्टर ने जनरल परीक्षण कक्ष एवं ओपीडी का निरीक्षण किया एवं व्यवस्था पर संतोष व्यक्त किया। साथ ही निर्माणाधीन कक्षों, नर्सिंग ड्यूटी रूम का निरीक्षण किया। बताया गया कि जल्द ही इन कक्षों का निर्माण कार्य पूर्ण हो जायेगा और कोविड-19 के मरीजों को यहां रखा जायेगा।