ALL उज्जैन शहर राज्य स्वास्थ्य देश विदेश मनोरंजन
कोरोना वायरस का संकट बड़ा है, लेकिन हमारा हौसला उससे भी ज्यादा बड़ा है - मुख्यमंत्री
March 27, 2020 • EDITOR • उज्जैन शहर

उज्जैन। प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के सभी संभाग के कमिश्नर, सभी जिले के कलेक्टर्स एवं जनप्रतिनिधियों से चर्चा की। कोरोना वायरस के आसन्न संकट को देखते हुए अपने सम्बोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस का संकट बड़ा है, लेकिन हमारा हौसला उससे ज्यादा बड़ा है। हम इस संकट का सामना मिल-जुलकर करेंगे और इस संकट से जीतेंगे भी। सरकार ने तेजी से प्रयास किया है। समाजसेवी संस्थाओं, धार्मिक संस्थाओं, औद्योगिक इकाईयों सहित जनप्रतिनिधि आदि इस संकट की घड़ी में आगे आये हैं। स्वयं बीजेपी ने तय किया है कि देश में 5 करोड़ गरीबों तक भोजन पहुंचाया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीबों के सामने भोजन का संकट हुआ है। इससे निपटने के लिये त्रिस्तरीय योजना बना ली गई है। योजना के तहत घर में भोजन तैयार कर भोजन पैकेट वितरित किये जायेंगे, दूसरा कम्युनिटी किचन में भोजन तैयार कर उसे बांटा जायेगा एवं तीसरा भोजन की बजाय गरीबों को राशन बांटा जायेगा।
मुख्यमंत्री ने निदे्रश दिये कि सभी कलेक्टर्स अपने जिले में सामाजिक संस्थाओं से कॉर्डिनेट करके जिले की व्यवस्था संभालेंगे। जनप्रतिनिधि कलेक्टर से चर्चा कर गरीब बस्तियों तक भोजन पहुंचाने का कार्य करेंगे एवं अलग-अलग स्थान चिन्हित करेंगे, जहां भोजन की आवश्यकता है। कलेक्टर जनप्रतिनिधियों से जिले के हालात पर प्रतिदिन चर्चा करेंगे। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि खाद्य सामग्री के परिवहन में किसी प्रकार की रोक नहीं है। आवश्यक वस्तुओं को लाने-ले जाने वाले ट्रकों पर कोई रोक नहीं है। मुख्यमंत्री ने चेतावनी दी कि आवश्यक वस्तुओं की कालाबाजारी करने वाले दुकानदारों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी। सख्त कार्यवाही के तहत उनके लायसेंस रद्द कर दुकान बन्द कराई जायेगी तथा जेल भिजवाने की कार्यवाही भी की जायेगी। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि जिले में आगामी दिनों में विदेश यात्रा से आये हुए लोगों एवं बाहर से पलायन कर आने वाले व्यक्तियों की स्केनिंग अनिवार्य रूप से की जाये। उन्होंने कहा कि सीमावर्ती जिलों के कलेक्टर विशेष रूप से इस कार्य को करें। उन्होंने बताया कि पंच परमेश्वर की राशि से गांव में भोजन एवं आश्रय की व्यवस्था की जायेगी। इसके लिये निर्देश भी जारी कर दिये गये हैं।
मुख्यमंत्री ने बताया कि बाहर से आने वाले मजदूरों के लिये नॉन या पीडीएस से राशन का उठाव कलेक्टर के निर्देश पर किया जायेगा। उन्होंने कहा कि जो छात्र या व्यक्ति इन्दौर या भोपाल में फंसे हैं वे वाट्सअप नम्बर 8989011180 पर सम्पर्क कर मदद मांग सकते हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि सभी राजनैतिक दलों का सहयोग भी लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने आर्थिक पैकेज की घोषणा की है। राज्य शासन ने भी ऐसे ही पैकेज की घोषणा की है, उसका लाभ नीचे तक पहुंचे। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि जो व्यक्ति अपने गृह ग्राम में जाना चाहते हैं, उनके लिये वाहनों की व्यवस्था शासकीय विभाग से की जाये। जरूरी चीजों की आपूर्ति जैसे दूध, दवाई, राशन, सब्जी की आपूर्ति लगातार की जायेगी। व्यक्ति हो सके तो घरों में ही रहें और लॉकडाउन का पालन करें। यदि कोई व्यक्ति आवश्यक वस्तुएं खरीदने बाहर जाता है तो एक की संख्या में बाहर जाये। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि इस संकट की घड़ी में कार्य कर रहे वॉलेंटियर्स को संक्रमण से बचाने के सभी उपाय किये जायें। उन्होंने बताया कि बीपी किट जुटाने के प्रयास किये जा रहे हैं। जल्द ही इसकी आपूर्ति सुनिश्चित की जायेगी। उन्होंने पुलिस प्रशासन को निर्देश दिये कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर वे सख्त कार्यवाही करें, लेकिन कार्यवाही में किसी का अहित न हो। टोलफ्री नम्बर 181 एवं 104 पर भी कोई व्यक्ति सम्पर्क कर अपनी परेशानी बता सकता है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आमजनों से अपील की कि साधारण सर्दी-खांसी यदि है तो वे इन टोलफ्री नम्बरों पर सूचना दें, उनकी पूरी जांच की जायेगी। उन्होंने बताया कि तीन-तीन किलोमीटर के दायरे में घर-घर सर्वे भी कराया जायेगा। उन्होंने सभी कलेक्टर्स को निर्देश दिये कि वे अपने जिले में आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था अनिवार्य रूप से करें। हार्वेस्टर चलाने वालों की जांच कर प्रारम्भिक कटाई प्रारम्भ करायें, लेकिन इसमें भी सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखा जाये। सभी कमिश्नर्स जिले की गतिविधि से लगातार अवगत कराते रहें। मुख्यमंत्री ने कहा कि जो व्यक्ति पॉजीटिव पाये गये हैं, उनके सम्पर्क में आये लोगों की भी जांच अनिवार्य रूप से की जाये। उन्होंने बताया कि बरसात से हुई फसल क्षति की भरपाई आरबीसी 6(4) से की जायेगी तथा लॉकडाउन के दौरान कोई भी सामाजिक, धार्मिक कार्यक्रम एवं धरना, प्रदर्शन या जुलूस नहीं निकाले जायेंगे।
पूर्व मंत्री एवं विधायक श्री पारस जैन ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि बीपीएल कार्डधारियों के पास राशन कार्ड होने पर उन्हें राशन प्राप्त हो जाता है, लेकिन जिन गरीब व्यक्तियों के पास कार्ड नहीं है, उन्हें ऑनलाइन आदेश किये जायें। उन्होंने बताया कि कोरोना की रिपोर्ट अरबिन्दो हॉस्पिटल इन्दौर में भिजवाई जा रही है। साथ ही स्वयंसेवी संगठन भोजन व्यवस्था की देखरेख कर रहे हैं। विधायक डॉ.मोहन यादव ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि प्रायवेट डॉक्टर, नर्स एवं पैरामेडिकल स्टाफ का स्वास्थ्य बीमा नहीं है, इस वजह से उनमें घबराहट का माहौल है।
जिले के एनआईसी कक्ष में महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, श्री विवेक जोशी, जनरल सेक्रेटरी बाबा जयगुरूदेव आश्रम उज्जैन श्री मृत्युंजय सहाय, कमिश्नर श्री आनन्द कुमार शर्मा, पुलिस महानिरीक्षक श्री राकेश गुप्ता, कलेक्टर श्री शशांक मिश्र, पुलिस अधीक्षक श्री सचिन अतुलकर सहित सम्बन्धित अधिकारीगण मौजूद थे।