ALL उज्जैन शहर राज्य स्वास्थ्य देश विदेश मनोरंजन
मध्य प्रदेश सरकार ने किसानों की चिन्ता कर उनके चेहरे पर रौनक लाने का काम किया है, जैविक खेती को अधिक से अधिक अपनायें किसान - मंत्री
March 4, 2020 • अपूर्व देवड़ा • उज्जैन शहर

उज्जैन। बुधवार को घट्टिया विकास खण्ड में कृषि उपज मंडी प्रांगण में किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग द्वारा ‘जय किसान फसल ऋण माफी योजना’ के अन्तर्गत किसानों को ऋण माफी प्रमाण-पत्र वितरण कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मध्य प्रदेश शासन के किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्री श्री सचिन सुभाष यादव थे। उल्लेखनीय है कि घट्टिया में आयोजित कार्यक्रम में तीन हजार 734 किसानों को ऋण माफी के प्रमाण-पत्र वितरित किये गये।
मंत्री श्री यादव ने कार्यक्रम के दौरान किसानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ के कुशल नेतृत्व में प्रदेश की जनता की उम्मीदों और अपेक्षाओं के अनुरूप हम लोग काम कर रहे हैं। मध्य प्रदेश सरकार ने किसानों की चिन्ता करते हुए उनके चेहरे पर रौनक लाने का काम किया है।
मध्य प्रदेश में नई सरकार को बने अभी मात्र एक वर्ष ही हुआ है, लेकिन मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने 365 दिनों में 365 वचनों को पूरा करने का रिकार्ड कायम किया है। इन वचनों में सबसे महत्वपूर्ण वचन अन्नदाता किसानों की ऋण माफी करना था। सरकार ने कठिन परिस्थितियों में भी इस वचन को पूरा किया है। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ द्वारा शपथ ग्रहण करने के मात्र एक घंटे के अन्दर किसानों की ऋण माफी का आदेश जारी किया गया था और इस योजना के तहत चरणबद्ध क्रियान्वयन किया गया।
फसल ऋण माफी योजना ऐसी पहली योजना है, जिसके अन्तर्गत किसी भी राष्ट्रीयकृत अथवा ग्रामीण बैंक से ऋण लेने वाले किसान जिनका चालू अथवा बचत खाता था, ऐसे सभी किसानों की ऋण माफी की गई। साथ ही इस योजना के तहत ऐसे किसानों को सम्मानित भी किया गया, जिन्होंने निर्धारित समय पर ऋण अदायगी की। इस योजना के प्रथम चरण में मध्य प्रदेश सरकार ने पूरे प्रदेश में 20 लाख से अधिक किसानों का सात हजार करोड़ रुपये का कर्ज माफी किया। इस योजना का दूसरा चरण प्रारम्भ हो चुका है।
पहले चरण में जो किसान छूट गये थे, उन्हें भी दूसरे चरण में शामिल किया जायेगा। हमारी सरकार की प्राथमिकता अन्नदाता किसान और खेतीहर मजदूर हैं। हमारी सरकार ने किसानों की आर्थिक प्रगति की दिशा में भी कारगर कदम बढ़ाये हैं। किसानों के बिजली के बिल आधे किये गये। कृषि यंत्रों की खरीदी पर सरकार की ओर से दी जाने वाली सब्सिडी बढ़ाकर 50 प्रतिशत तक की गई है। किसानों की फसल को उचित मूल्य दिलाये जाने पर भी सरकार द्वारा योजना बनाई जा रही है।
मंत्री श्री यादव ने समस्त किसानों से अनुरोध किया कि वे अधिक से अधिक जैविक खेती को अपनायें। उन्होंने कहा कि गौसेवा को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ द्वारा पूरे प्रदेश में चरणबद्ध तरीके से प्रथम चरण में एक हजार से अधिक गौशालाओं का निर्माण तेज गति से किया जा रहा है। घट्टिया विकास खण्ड में 10 से अधिक गौशालाओं का निर्माण कार्य प्रगति पर है। मध्य प्रदेश सरकार का गौशालाओं के निर्माण के पीछे प्रमुख उद्देश्य गोसेवा तो है ही, साथ ही किसानों का रूझान गौ-आधारित खेती की तरफ बढ़ाने का भी एक सार्थक प्रयास है।
मंत्री श्री यादव ने कहा कि गौ-आधारित खेती से कीटनाशकों और रासायनिक उर्वरकों का प्रयोग कम होगा और हम कई गंभीर बीमारियों से बच सकेंगे। उन्होंने कहा कि कृषि विभाग के अधिकारियों द्वारा समय-समय पर किसानों को जैविक और एकीकृत खेती का सतत प्रशिक्षण उपलब्ध कराया जायेगा।
मंत्री श्री यादव ने कहा कि जब किसान मंडी में अपनी फसल बेचने के लिये आते हैं, तब ऐसे कई अवसर आते हैं, जब उन्हें कम दामों पर अपनी फसल बेचना पड़ती है। किसानों को इससे बचाने के लिये सरकार द्वारा योजना बनाई जा रही है। इसमें मंडी प्रांगण के 15 किलो मीटर के दायरे के अन्दर किसान अपनी फसल का भण्डारण कर सकेंगे। भण्डारण के किराये का वहन सरकार द्वारा किया जायेगा। इसके अलावा चार महीनों में किसानों को यदि ऋण की आवश्यकता पड़ती है तो वह भी सरकार द्वारा उपलब्ध करवाने का प्रयास किया जायेगा। साथ ही मंडी के प्रांगण में ग्रेडिंग, सोर्टिंग आदि सुविधाएं किसानों के लिये मुहैया कराई जायेगी। मंडी में किसानों की प्रवेश प्रक्रिया को सरल बनाने का काम किया जायेगा।
मंश्री श्री यादव ने कहा कि जनता के सभी वर्गों के हित के लिये सरकार ने प्रयास किये हैं। वृद्धावस्था पेंशन को बढ़ाकर 600 रुपये किया गया, जिसे आने वाले समय में एक हजार रुपये तक किया जायेगा। इंदिरा ज्योति योजना के अन्तर्गत उज्जैन जिले में लगभग तीन लाख 12 हजार घरेलु उपभोक्ताओं को 100 रुपये में 100 युनिट बिजली प्रदाय की गई। आगे भी निरन्तर विकास के कार्य किये जायेंगे। मंत्री श्री यादव ने अपनी ओर से सभी किसानों को शुभकामनाएं दी।
कार्यक्रम की अध्यक्षता घट्टिया के विधायक श्री रामलाल मालवीय ने की। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने प्रदेश के किसानों का दु:ख-दर्द समझा है। ऋण माफी से प्रदेश के किसान बेहद खुश हैं। बुधवार को घट्टिया विकास खण्ड के तीन हजार 734 किसानों के लगभग 25 करोड़ रुपये राशि की ऋण माफी के प्रमाण-पत्र वितरित किये जा रहे हैं, जो कि हम सभी के लिये अत्यन्त हर्ष का विषय है। विधायक ने इस हेतु मंत्री श्री यादव का आभार व्यक्त किया और किसानों को शुभकामनाएं दी।
कार्यक्रम में स्वागत भाषण श्री रमेश गुनावा द्वारा दिया गया। श्री कमल पटेल ने अपने उद्बोधन में कहा कि फसल ऋण माफी योजना से किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार आया है। मध्य प्रदेश सरकार ने जो वचन दिया था, उसे पूरा किया है। मंडी में किसानों को अब नगद भुगतान मिलने लगा है।
कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष श्री करण कुमारिया, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष श्री अजीतसिंह, श्री मनोहर बैरागी, श्री चेतन यादव, श्री अफसर पटेल, श्री रामेश्वर पटेल, कलेक्टर श्री शशांक मिश्र, उप संचालक कृषि श्री सीएल केवड़ा, उद्यानिकी विभाग और अन्य सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण व गणमान्य नागरिक मौजूद थे।
कार्यक्रम में अतिथियों द्वारा मंच से प्रतीकात्मक रूप से 21 किसानों को ऋण माफी के प्रमाण-पत्र वितरित किये गये। इसके बाद लाड़ली लक्ष्मी योजना और कृषि यंत्र पर अनुदान राशि के प्रमाण-पत्र हितग्राहियों को वितरित किये गये। स्व-सहायता समूह की महिलाओं को भी प्रमाण-पत्र का वितरण किया गया तथा कृषक श्री जीवनसिंह को ट्रेक्टर की चाबी कृषि कल्याण योजना के अन्तर्गत भेंट की गई। आभार प्रदर्शन एसडीएम घट्टिया द्वारा किया गया।