ALL उज्जैन शहर राज्य स्वास्थ्य देश विदेश मनोरंजन
संभागायुक्त एवं आईजी ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ महाशिव नवरात्रि पर्व के सम्बन्ध में दर्शन व्यवस्थाओं की समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दिये
February 6, 2020 • अपूर्व देवड़ा • उज्जैन शहर


 
उज्जैन। महाशिव नवरात्रि पर्व 13 फरवरी से प्रारम्भ होकर महाशिवरात्रि पर्व 21 फरवरी को मनाया जायेगा। महाशिवरात्रि के दूसरे दिन 22 फरवरी को वर्ष में एक बार दोपहर में भस्म आरती होगी। महाशिवरात्रि पर्व के सम्बन्ध में संभागायुक्त श्री अजीत कुमार, आईजी श्री राकेश गुप्ता ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बृहस्पति भवन में श्रद्धालुओं की दर्शन व्यवस्था आदि के बारे में समीक्षा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। बैठक में निर्देश दिये कि श्रद्धालुओं को कम से कम समय में दर्शन कराया जाना सुनिश्चित किया जाये। आम श्रद्धालु दर्शन के लिये समय पर भगवान महाकाल के दर्शन सुलभ तरीके से एवं सुचारू रूप से हो सके, ऐसी व्यवस्था की जाये। संभागायुक्त श्री अजीत कुमार ने बैठक में सम्बन्धित अधिकारी को निर्देश दिये कि महाशिव नवरात्रि के अवसर पर जियो, बीएसएनएल तथा एयरटेल कंपनी से टॉवर की क्षमता के सम्बन्ध में चर्चा की जाये, ताकि एक-दूसरे से आसानी से मोबाइल पर सम्पर्क हो सके।
दर्शन व्यवस्था
 बैठक में बताया गया कि 13 फरवरी से 20 फरवरी तक गर्भगृह में प्रात: 9.20 बजे से दोपहर एक बजे तक प्रवेश पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। अपराह्न 3 बजे से सन्ध्या पूजन पश्चात भगवान महाकाल का श्रृंगार किया जायेगा। महाशिवरात्रि पर्व पर 21 एवं 22 फरवरी तक समय निर्धारित किया गया है। 21 फरवरी को भगवान महाकाल के पट खुलने का समय रात्रि 2.30 बजे रहेगा। भस्म आरती इस दिन रात्रि 2.30 बजे से 4.30 बजे तक होगी। दद्योदय आरती प्रात: 7.30 से 8.15 बजे, भोग आरती प्रात: 10.30 बजे से 11.15 बजे तक, दोपहर 12 बजे से एक बजे तक तहसील की ओर से भगवान महाकाल का अभिषेक-पूजन होगा। शाम 4 बजे से 5 बजे तक सिंधिया, होल्कर स्टेट का अभिषेक पूजन शासकीय पुजारी द्वारा किया जायेगा। शाम 5.30 बजे सन्ध्या आरती होगी। रात्रि 8 से 10 बजे तक सूर्यमुखी चैनल गेट से पूजन सामग्री को कोटेश्वर महादेव तक जाकर कोटेश्वर भगवान का पूजन-अर्चन किया जायेगा। रात्रि 10.30 बजे से जलपात्र से जल चढ़ाना बन्द हो जायेगा तथा भगवान महाकाल का महापूजन प्रारम्भ होगा।
 इसी प्रकार महाशिवरात्रि के दूसरे दिन 22 फरवरी को प्रात: 4 बजे से सेहरा चढ़ना प्रारम्भ होगा। प्रात: 6 बजे सेहरा आरती होगी। प्रात: 11 बजे से सेहरा उतारना प्रारम्भ होगा और दोपहर 12 से 2 बजे तक भस्म आरती होगी। इसके बाद दोपहर 2 से 3 बजे तक भोग आरती होगी। शाम 5 बजे से 5.45 बजे सन्ध्या पूजन के समय भगवान महाकाल को जल चढ़ाना बन्द हो जायेगा। भगवान महाकाल की सन्ध्या आरती शाम 6.30 बजे से 7.15 बजे और शयन आरती रात्रि 10.30 बजे के बाद रात्रि 11 बजे पट बन्द किये जायेंगे। संभागायुक्त एवं आईजी ने अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि निर्धारित समय में व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जायें, ताकि दर्शनार्थियों को भगवान महाकाल के दर्शन करने में किसी प्रकार की रूकावट न आ पाये।
 सामान्य दर्शनार्थियों की दर्शन व्यवस्था हरसिद्धि मन्दिर चौराहा से बड़ा गणेश मन्दिर, पुलिस चौकी, सरस्वती शिशु मैदान, माधव सेवा न्यास पार्किंग, मुख्य प्रवेश द्वार शहनाई झिकझेक, टनल छत, फेसेलिटी सेन्टर, टनल-1 एवं 2, नेवैद्य कक्ष के संमुख 6 नम्बर द्वार, कार्तिक मण्डपम एवं गणेश मण्डपम से दर्शनार्थी भगवान महाकाल के दर्शन करने के पश्चात निर्गम द्वार से हरसिद्धि मार्ग से वापस बाहर होंगे।
 दिव्यांगजन, वृद्धजन, मीडिया, पुजारी, पुरोहित, ड्यूटीरत कर्मचारी हरसिद्धि मन्दिर चौराहा से दूसरी लाइन से बड़ा गणेश मन्दिर, भस्म आरती गेट नम्बर-4 से मन्दिर के अन्दर विश्रामधाम 6 नम्बर द्वार से कार्तिक मण्डपम, गणेश मण्डपम से दर्शन करने के पश्चात निर्गम द्वार से हरसिद्धि मार्ग से वापस होंगे।
 बैठक में बताया गया कि 250 रुपये के टिकिट से शीघ्र दर्शन के स्लाट सिस्टम एवं संख्या निर्धारित कर तथा पासधारी त्रिवेणी संग्रहालय के पास से रूद्र सागर तालाब जो कि नवीन मार्ग बनाया गया है, उससे होते हुए शंख द्वार, फेसेलिटी सेन्टर, टनल-1 व 2 होते हुए नेवैद्य कक्ष के संमुख 6 नम्बर द्वार से कार्तिक मण्डपम एवं गणेश मण्डपम से दर्शन करने के पश्चात निर्गम द्वार से हरसिद्धि मार्ग से वापस होंगे।
 अतिविशिष्ट अतिथियों की दर्शन व्यवस्था में प्लान ‘ए’ एवं प्लान ‘बी’ रहेगा। इसमें प्लान ‘ए’ में बेगमबाग तिराहा से महाकाल धर्मशाला, प्रवचन हाल, कुण्ड परिसर वाले रास्ते से दर्शन कर पुन: इसी मार्ग से निर्गम होंगे। प्लान ‘बी’ में कोट मोहल्ला चौराहा, पुलिस चौकी प्रवेश द्वार, सतीमाता द्वार, मार्बल गलियारा, सभा मण्डप के रास्ते से दर्शन कर पुन: इसी मार्ग से निर्गम होंगे।
क्यूआर कोड पास
 बैठक में प्रशासक श्री एसएस रावत ने वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया कि महाशिवरात्रि पर्व पर क्यूआर कोड पास जारी किये जायेंगे। यह पास महाशिवरात्रि पर्व पर समस्त ड्यूटीरत कर्मचारियों, मीडिया, पुजारी/पुरोहित/प्रतिनिधि/परिवार, सर्विस वाहन तथा वीआईपी पास में क्यूआर कोड होगा। पर्व पर शान्ति एवं कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिये सम्पूर्ण मन्दिर परिक्षेत्र में कार्यपालिक दण्डाधिकारियों की ड्यूटी लगाई जायेगी। सुरक्षा व्यवस्था एवं कुशल दर्शन व्यवस्था के संचालन हेतु पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल लगाया जायेगा। पुलिस बल के साथ में होमगार्ड का दल भी तैनात किया जायेगा।
पेयजल व्यवस्था
 संभागायुक्त श्री अजीत कुमार ने सम्बन्धित लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधिकारी को निर्देश दिये हैं कि श्रद्धालुओं के लिये पेयजल की व्यवस्था बेहतर ढंग से की जाये। पेयजल स्थल पर पानी पिलाने वाले कर्मचारियों की शिफ्टवार ड्यूटी लगाई जाये। पेयजल के लिये पेयजल टेंकर, पेयजल टंकी आदि की निर्धारित स्थानों पर व्यवस्था की जायेगी। इसके अलावा पेयजल की व्यवस्था उज्जयिनी सेवा समिति द्वारा ट्राली के माध्यम से भी की जायेगी।
स्वास्थ्य व्यवस्था
 बैठक में बताया गया कि श्रद्धालुओं की व्यवस्था के लिये चिकित्सा व्यवस्था भी रहेगी। संभागायुक्त ने बैठक में निर्देश दिये हैं कि चिकित्सा व्यवस्था जो जरूरी है वह पर्याप्त व्यवस्था में रहे, ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित की जाये। निर्धारित स्थलों पर दो-दो एम्बुलेंस खड़ी करवाई जाये, ताकि कोई समस्या आने पर उपलब्ध रहे। इस सम्बन्ध में कलेक्टर श्री शशांक मिश्र ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।
 बैठक में संभागायुक्त ने सम्बन्धितों को निर्देश दिये कि महाकाल परिसर आदि स्थलों पर पीए सिस्टम ठीक हो। विद्युत व्यवस्था बेहतर हो, इसके पूर्व विद्युत विभाग के अधिकारी महाकाल परिसर आदि स्थानों पर निरीक्षण कर विद्युत तार, केबल, पंखे आदि चेक करें। उन्होंने निर्देश दिये कि विद्युत अधिकारी-कर्मचारियों को अलग-अलग स्थलों पर नियुक्त किया जाये, ताकि आपदा आने पर उससे निपटा जा सके। मन्दिर के आसपास आदि रास्तों पर पर्याप्त प्रकाश व्यवस्था हो, यह भी सुनिश्चित किया जाये। इस सम्बन्ध में विद्युत सुरक्षा प्रमाण-पत्र उपलब्ध कराये जाने के निर्देश दिये।
 लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि समस्त मार्गों की बेरिकेटिंग मजबूती से लगाई जाये, होल्डअप एरिया तैयार किया जाये और रूद्र सागर तालाब में नवीन मार्ग पर बेरिकेटिंग आदि की सुदृढ़ व्यवस्था की जाये। बैठक में नगर निगम के अधिकारियों को निर्देश दिये कि मन्दिर परिक्षेत्र के आसपास और मन्दिर आने वाले मार्गों की साफ-सफाई व्यवस्था ठीक ढंग से की जाये। साथ ही श्रद्धालुओं की सुलभता हेतु चलित शौचालय मन्दिर के आसपास अतिक्रमण, मार्गों पर पर्याप्त प्रकाश व्यवस्था, श्वान व आवारा पशुओं को हटाने, भिखारियों को हटाने आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये।
अस्थाई फायर स्टेशन
 महाशिवरात्रि पर्व पर अस्थाई फायर स्टेशन बनाये जायेंगे। स्टेशन महाकाल थाने के सामने, हरसिद्धि मन्दिर चौराहा, प्रवचन हाल के समीप, बेगमबाग तिराहा, सरस्वती शिशु मन्दिर होल्डअप एरिया एवं अन्य आवश्यक स्थानों पर रहेंगे।
अस्थाई जूता स्टेण्ड
 महाशिवरात्रि पर्व पर दर्शन के लिये आने वाले श्रद्धालुओं के लिये अस्थाई जूता स्टेण्ड की व्यवस्था विकास प्राधिकरण द्वारा की जायेगी। अस्थाई जूता स्टेण्ड बेगमबाग तिराहा, हरसिद्धि मन्दिर चौराहा, सराफा स्कूल के पास एवं अन्य आवश्यक स्थानों पर बनाये जायेंगे। महाशिवरात्रि पर्व पर एलईडी, लाऊड स्पीकर, शीघ्र दर्शन काउंटर, प्रसाद काउंटर की भी व्यवस्था निर्धारित स्थलों पर की जायेगी।
कंट्रोल रूम की व्यवस्था
 बैठक में बताया गया कि जिन-जिन विभागों के सेवकों को ड्यूटी पर तैनात किया जायेगा, उन विभागों के एक-एक अधिकारी को मन्दिर कंट्रोल रूम में नोडल अधिकारी नियुक्त किया जायेगा, जो मन्दिर में कार्यरत सम्बन्धित विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों से समन्वय स्थापित कर आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करेंगे।
4 प्रसाद काउंटर रहेंगे
 बैठक में जानकारी दी गई कि महाशिवरात्रि पर्व पर श्री महाकालेश्वर मन्दिर के निर्गम द्वार के संमुख चार प्रसाद काउंटर स्थापित किये जायेंगे। यह व्यवस्था मन्दिर प्रबंध समिति द्वारा की जायेगी। बैठक में जनसम्पर्क अधिकारी को निर्देश दिये हैं कि मीडिया को कवरेज हेतु पास जारी करने की जिम्मेदारी दी है। इसके साथ ही समय-समय पर प्रेसनोट जारी करने के निर्देश दिये हैं।
खाद्य पदार्थों की जांच होगी
 बैठक में संभागायुक्त ने खाद्य एवं औषधी विभाग के अधिकारी को निर्देश दिये हैं कि श्री महाकालेश्वर मन्दिर के आसपास की दुकानों पर बिकने वाले खाद्य पदार्थों की अनिवार्य रूप से जांच की जाये। इसके अलावा फलाहार वितरण पांडालों की जांच की जाये और उनके वितरण स्थल का चयन करने के निर्देश दिये। इसी प्रकार होमगार्ड, वन विभाग, उज्जैन एवं घट्टिया तहसील के तहसीलदारों को निर्देश दिये हैं कि वे पटवारियों आदि अमले को तैनात किया जाये। साथ ही व्हील चेयर के चालन हेतु कोटवारों को नियुक्त किया जाये। जनपद पंचायत उज्जैन के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को निर्देश दिये हैं कि शीघ्र दर्शन काउंटरों पर टिकिट विक्रय के लिये सचिव आदि की ड्यूटी लगाई जाना सुनिश्चित करें। इसी तरह बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी को स्काऊट गाईड की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। यातायात विभाग को निर्देश दिये हैं कि मन्दिर आने वाले सम्पूर्ण मार्गों पर यातायात व्यवस्था, पार्किंग व्यवस्था और मन्दिर पहुंच मार्ग पर संकेतकों की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। बैठक में निर्देश दिये हैं कि महाशिव नवरात्रि पर्व पर 13 से 20 फरवरी एवं 21 फरवरी की दर्शन व्यवस्था पर विशेष ध्यान दिया जाये।
 बैठक के अन्त में अधिकारियों ने श्री महाकालेश्वर मन्दिर एवं मन्दिर के आसपास का निरीक्षण किया। सर्वप्रथम संभागायुक्त एवं आईजी ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ त्रिवेणी संग्रहालय के पास से रूद्र सागर तालाब में बनाये गये नवीन मार्ग का निरीक्षण करते हुए भारत माता मन्दिर के पास वाले रास्ते से शंख द्वार, महाकाल धर्मशाला, बड़ा गणेश, पुलिस चौकी, सरस्वती शिशु मन्दिर, माधव सेवा न्यास परिसर, प्रशासक कार्यालय के समीप होते हुए टनल से मन्दिर के अन्दर आदि स्थलों का निरीक्षण कर सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।
 बैठक में आईजी श्री राकेश गुप्ता, कलेक्टर श्री शशांक मिश्र, पुलिस अधीक्षक श्री सचिन अतुलकर, नगर निगम आयुक्त श्री ऋषि गर्ग, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी डॉ.आरपी तिवारी, जिला पंचायत सीईओ श्री नीलेश पारिख, अपर कलेक्टर एवं प्रशासक श्री एसएस रावत, उज्जैन, घट्टिया के एसडीएम तथा विभिन्न विभागों के संभागीय व जिला अधिकारी उपस्थित थे।