ALL उज्जैन शहर राज्य स्वास्थ्य देश विदेश मनोरंजन
स्वसहायता समूह में अधिक से अधिक महिलाएं आत्मनिर्भर बने, लाभोन्मुख स्वरोजगार एवं कौशल आधारित रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देना सरकार का मुख्य उद्देश्य, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवर्धन सिंह ने हितलाभ वितरण कार्यक्रम में भाग लिया
January 7, 2020 • अपूर्व देवड़ा • उज्जैन शहर

उज्जैन। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवर्धन सिंह ने मंगलवार 7 जनवरी को उज्जैन प्रवास के दौरान नगर निगम उज्जैन द्वारा आयोजित कालिदास अकादमी परिसर के पं.सूर्यनारायण व्यास संकुल में डे-राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के अन्तर्गत हितलाभ वितरण कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि स्वसहायता समूह में अधिक से अधिक महिलाएं आत्मनिर्भर बने और अपना और अपने परिवार का बेहतर ढंग से लालन-पालन करे, यही सरकार का उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि लाभोन्मुख स्वरोजगार एवं कौशल आधारित रोजगार के अवसरों को राज्य सरकार द्वारा बढ़ावा दिया जा रहा है।

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री  जयवर्धन सिंह ने अपने सम्बोधन में कहा कि आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन का उद्देश्य शहरों में लाभोन्मुख स्वरोजगार एवं कौशल आधारित रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देना है ताकि शहरी गरीब परिवारों की गरीबी एवं उनकी कठिनाईयों को दूर किया जा सके। कौशल प्रशिक्षण एवं प्लेसमेंट के माध्यम से रोजगार देने, सामाजिक एकजुटता एवं संस्थानिक विकास, कौशल्य विकास एवं प्रशिक्षण, स्वरोजगार कार्यक्रम, शहरी बेघरों के लिए आश्रय एवं शहरी सड़क विक्रेताओं को सहयोग प्रदान करने से संबंधित आदि जानकारी उपस्थित जनसमुदाय को दी। उन्होंने बताया कि शहरी राष्ट्रीय आजीविका मिशन योजना देश के पूर्व प्रधानमंत्री  मनमोहन सिंह के द्वारा लागू की गई थी और उस दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री  कमल नाथ विभाग के मंत्री थे। उक्त योजना देश के शहरों में संचालित की जा रही है। योजना भारत सरकार एवं राज्य सरकार के प्रयास से स्वसहायता समूह की महिलाओं को आर्थिक मदद देकर रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। योजना का संचालन ठीक ढंग से हो, ताकि महिलाएं आत्मनिर्भर बनें। योजना के अन्तर्गत 10 हजार रुपये से लेकर अच्छा काम करने वाली स्वसहायता समूहों को एक लाख रुपये तक का ऋण सरकार द्वारा उपलब्ध कराया जाता है। मंत्री जयवर्धन सिंह ने कहा कि बेरोजगार युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा चुका है और आने वाले समय में भी दिया जायेगा। उज्जैन नगर निगम के द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना करते हुए बताया कि नगर निगम उज्जैन के द्वारा विभिन्न योजनाओं में 143 हितग्राहियों को 95 लाख 62 हजार रुपये के प्रतीक स्वरूप चेक वितरण किये जा रहे हैं।

 नगरीय विकास एवं आवास मंत्री  जयवर्धन सिंह ने कहा कि उज्जैन शहर प्राचीन धार्मिक शहर है। धार्मिक शहर होने के कारण शहरवासियों को रोजगार अधिक से अधिक मिले, यह प्रयास किया जायेगा। आपने बताया कि देश में पहली बार इन्दौर शहर में ई-रिक्शा महिलाओं को उपलब्ध कराने का सराहनीय कार्य हुआ है। धार्मिक नगर उज्जैन होने के कारण ई-रिक्शा चलाने के लिये इच्छुक महिलाओं को जोड़े जाने का प्रयास किया जायेगा। इसी तरह प्रदेश के 16 नगर निगमों में यह कार्य किया जायेगा। सरकार की कई योजनाओं में आधुनिकता हो, यह प्रयास भी किया जायेगा। देश में सबसे बड़ा धार्मिक स्थल उज्जैन को बनाने का प्रयास किया जायेगा। शहर में और अधिक से अधिक स्वसहायता समूह बने, ताकि महिलाएं आत्मनिर्भर बनकर अपने घर का अच्छे से संचालन कर सकें।
 बैठक के प्रारम्भ में महापौर मीना जोनवाल ने डे-राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के अन्तर्गत हितलाभ वितरण कार्यक्रम की जानकारी देते हुए उपस्थित महिलाओं से कहा कि वे समूह में रहकर अच्छा कार्य करने पर उन्हें बधाई दी। महापौर ने स्वच्छता अभियान का भी जिक्र करते हुए कहा कि जिस तरह उज्जैन शहर स्वच्छता में नम्बर-1 है, इस प्रकार से सहयोग आगे भी देते रहें और हमारा शहर सुन्दर दिखे। नगर निगम अध्यक्ष सोनू गेहलोत ने भी अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि शासन की विभिन्न योजनाएं दूरगामी परिणाम देने वाली होती है। अच्छी योजनाओं से अधिक से अधिक हितग्राहियों को फायदा पहुंचता है। नगर निगम के उपनेता  राजेन्द्र वशिष्ठ ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने एक वर्ष में 365 से अधिक वचन पूरे किये हैं और जो वचन दिये हैं, उन्हें भी आने वाले समय में अनिवार्य रूप से पूर्ण किये जायेंगे। व्यापार व्यवसाय करने वाले स्वसहायता समूह को जो राशि वितरित की जा रही है, उससे महिलाएं अपना और अपने परिवार का लालन-पालन करें। आपने स्वच्छता अभियान की भी बात कही और कहा कि पालीथीन का विकल्प कपड़े की थैली से होना चाहिये। श्री वशिष्ठ ने नगरीय विकास एवं आवास मंत्री से अनुरोध किया कि प्रधानमंत्री आवास योजना में शेष राशि शीघ्र स्वीकृत की जाये, ताकि गरीबों के अधूरे मकान को पूर्ण किया जा सके। कार्यक्रम के प्रारम्भ में स्वागत भाषण देते हुए पार्षद योगेश्वरी राठौर ने दिया और योजना से सम्बन्धित विस्तार से जानकारी दी। प्रधानमंत्री आवास की राशि शीघ्र स्वीकृत करने की मांग भी आपके द्वारा की गई। श्रीमती राठौर ने बताया कि स्वरोजगार योजना में 31 हितग्राहियों को 33 लाख, स्वरोजगार योजना (स्वसहायता समूह) में आठ लाख रुपये, एसएचजी आवर्ती निधि में पांच लाख रुपये, एएलएफ आवर्ती निधि में एक लाख 50 हजार रुपये, एसएचजी बैंक लिंकेज में 40 लाख रुपये, ई-रिक्शा में आठ लाख रुपये और पेंशन में 12 हजार रुपये की राशि का वितरण हितग्राहियों को किया गया।
कार्यक्रम के पहले मंत्री श्री सिंह प्रेस क्लब पहुंचे। वहां पर प्रेस क्लब की ओर से इलेक्ट्रॉनिक एवं प्रिंट मीडिया द्वारा आत्मीय स्वागत किया। इस अवसर पर प्रेस क्लब के अध्यक्ष  विशालसिंह हाड़ा, उपाध्यक्षद्वय  विक्रमसिंह जाट,  पुष्करन दुबे, सचिव  उदय चन्देल, कोषाध्यक्ष  प्रदीप मालवीय, सह सचिव रामचन्द्र गिरी तथा प्रेस क्लब के कार्यकारिणी सदस्यगण, वरिष्ठ पत्रकार आदि उपस्थित थे।
 कार्यक्रम के प्रारम्भ में अतिथियों ने मां वाग्देवी के चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर विधायक  रामलाल मालवीय, महेश परमार, जिला पंचायत अध्यक्ष  करण कुमारिया,  कमल पटेल, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष  अजीतसिंह ठाकुर, पूर्व विधायक  राजेन्द्र भारती, नगर निगम के पार्षदगण और बड़ी संख्या में शहरवासी उपस्थित थे।

मंगलनाथ एवं कालभैरव के देवदर्शन कर पूजा-अर्चना की

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री  जयवर्धन सिंह ने उज्जैन प्रवास के दौरान सर्वप्रथम श्री मंगलनाथ मन्दिर पहुंचकर विधिवत पूजन-अर्चन कर भातपूजा की। पूजन-अर्चन पूर्व विधायक  राजेन्द्र भारती की उपस्थिति में  विपिन शर्मा आदि पंडितों के द्वारा सम्पन्न कराया। इसके बाद  जयवर्धन सिंह ने भैरवगढ़ स्थित कालभैरव मन्दिर में देवदर्शन कर पूजा-अर्चना की। इस अवसर पर विधायक  रामलाल मालवीय, जिला पंचायत अध्यक्ष  करण कुमारिया, पूर्व लोक निर्माण राज्य मंत्री  बाबूलाल मालवीय, पूर्व विधायक  राजेन्द्र भारती,  अनन्तनारायण मीणा,  राजेन्द्र वशिष्ठ आदि उपस्थित थे।